घरेलू उपाय प्रेगनेंसी टिप्स

जल्द गर्भवती होने के उपाय

हर परिवार की चाहत होती है कि शादी के बाद उसके घर में नन्हें मुन्हें बच्चे की किलकारी गूंजे। लेकिन कई बार कुछ कारणों से महिलाओं को गर्भधारण में दिक्कते आती हैं। कई बार कुछ आदतों और कंडीशंस के चलते महिलाएं चाह कर भी प्रेग्नेंसी कैरी नहीं कर पाती और अवसाद में आ जाती है।

अगर महिला गर्भधारण की कोशिशें कर रही है और फिर भी गर्भधारण नहीं हो रहा तो कुछ आदतों में बदलाव करके या कुछ तरीकों के जरिए गर्भधारण किया जा सकता है। आइए जानते हैं उन तरीकों के बारे में जिनको अपनाकर जल्दी प्रेग्नेंट हुआ जा सकता है।

जल्द गर्भधारण या Pregnant होने के तरीके

1. गर्भधारण सही उम्र में करे


गर्भधारण के लिए डाक्टर सही उम्र 18 से 28 साल के बीच बताते हैं। इस उम्र के बीच की महिलाओं की शादी के बाद गर्भधारण की संभावना काफी रहती है क्योंकि इस उम्र में फर्टिलाइजेन ज्यादा होता है। 25 साल की महिला की तुलना में 35 साल की महिला को प्रेग्नेंट होने के 50 फीसदी कम चांस होते हैं। इसलिए यह देखिए कि आपकी उम्र क्या है, अगर उम्र ज्यादा हो रही है तो डाक्टर से परामर्श लें।

2. पहली प्रेग्नेंसी को अबॉर्ट न करें

जल्दी प्रेग्नेंट होने के लिए जरूरी है कि होने वाली मां में फर्टिलिटी होना बहुत जरूरी है। माहवारी समय पर होती हो और फर्टिलाइजेशन भी समय पर होता हो, इसके लिए जरूरी है कि आप डाक्टर से फर्टिलिटी की जांच कराएं। अगर मात्रा कम आती तो पहले ट्रीटमेंट कराएं।

3. पहली प्रेग्नेंसी को अबॉर्ट न करें


भूलकर भी अपनी पहली प्रेग्नेंसी को खत्म न करें। यह गलतियां अक्सर नवविवाहित कर डालते हैं औऱ फिर उन्हें गर्भधारण के लिए काफी प्रयास करने पड़ते हैं। दरअसल पहली प्रेग्नेंसी ही आपके फर्टिलाइजेशन को समृद्ध करती है। पहली प्रेग्नेंसी को ही अगर अबॉर्शन के जरिए खत्म करवा दिया गया हो तो काफी कांप्लिकेशंस बढ़ जाते हैं।

3. माहवारी का चक्र नियमित करें


जल्दी गर्भवती होने के लिए जरूरी है कि आपके पीरियड्स का साइकिल दुरुस्त हो। वो तयशुदा तारीख से पहले या कुछ दिन बाद न हो रहे हों। अगर पीरियड्स रेगुलर नहीं हैं तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं और इलाज करवाएं। जल्दी प्रेग्नेंट होने के लिए पीरियड्स का नियमित होना सबसे जरूरी है।

4. ऑवुलेशन पीरियड पर नजर रखें


पीरियड्स से दो हफ्ते पहले का समय महिला के ऑवुलेशन का समय होता है। इस समय गर्भधारण करने का प्रयास करें। डॉक्टर कहते हैं कि ओवेलुशन पीरियड में गर्भधारण के चांस 60 से 70 फीसदी होते हैं। इस दौरान किए गए प्रयास के रिजल्ट में कंसीव करने की संभावना काफी बढ़ जाती है।

5. वजन पर कंट्रोल करें


बढ़े हुए वजन के दौरान कंसीव करने में काफी परेशानी आती है। मोटापे के चलते लाखों महिलाएं मां बनने का सुख नहीं भोग पाती क्योंकि ओवरवेट के चलते उनके फेलोपियन ट्यूब और ओवरी के बंद होने की आशंका बढ़ जाती है। मोटापे के चलते कई महिलाओं की बच्चेदानी में सिस्ट तक हो जाते हैं। इसलिए जल्दी कंसीव करने के लिए वजन पर कंट्रोल करें।

6. सेहतमंद आहार


जल्दी प्रेग्नेंट होने के लिए जरूरी है कि होने वाली मां सेहतमंद आहार खाएं और खान पान पर पूरा ध्यान दें। आयरन और केल्शियन की कमी के चलते कंसीव होने के चांस खत्म होते हैं क्योंकि फर्टिलाइजेशन प्रॉपर डाइट से जुड़ा मामला है। महिला खुश रहे और अच्छा खाना खाए तो प्रेग्नेंसी के चांस 30 फीसदी बढ़ जाते हैं।

7. कंसेप्शनमून


पति पत्नी हनीमून के साथ साथ कंसेप्शनमून पर भी निकल जाएं। विदेशों में लोग गर्भधारण करने के लिए कंसेप्शनमून पर निकल जाते हैं। इस दौरान खुशनुमा माहौल में गर्भधारण के प्रयास होते हैं। इसके लिए विदेशों में लोग छुट्टी लेते हैं। कंसेप्शनमून का पति पत्नी को काफी फायदा मिलता है क्योंकि यहां बिना किसी तनाव और परेशानी के अच्छे और रिलेक्स माहौल के बीच गर्भधारण के प्रयास किए जाते हैं जिनका रिजल्ट भी अच्छा ही निकलता है।

8. नशे को ना कहें


नए जमाने में लड़कियां भी सिगरेट और शराब पीती हैं लेकिन यही आदत गर्भधारण में दिक्कत पैदा करती है। दरअसल सिगरेट और शराब का सेवन प्रजनन क्षमता को घटाता है और इसका सीधा असर ऑवुलेशन पर पड़ता है। लगातार सिगरट और शराब का सेवन करने से फर्टिलिटी पर बहुत बुरा असर पड़ता है।

9. गर्भनिरोधक का प्रयोग छोड़ दें


जब आप प्रेग्नेंसी कंसीव करना चाह रहे हैं तो उससे साल भर पहले गर्भनिरोधकों का प्रयोग न करें। दरअसल कंस्ट्रासेप्टिव का लगातार इस्तेमाल करने से ऑवुलेशन की प्रक्रिया पर गहरा असर पड़ता है और इससे लंबे समय तक कंसीव नहीं हो पाता। आप जब भी मां बनना चाहें तो सबसे पहले गर्भनिरोधकों को ना कहें और हफ्ते में दो से तीन बार प्रणय संबंध बनाएं।

10. लुब्रिकेंट्स को ना कहें


अगर जल्द बच्चा चाहिए तो संबंध बनाते समय लुब्रिकेंट्स का प्रयोग भूलकर न करें। ये लुब्रिकेंट्स स्पर्म को ओवरी तक नहीं जाने देते और ऐसे में कंसीव करने व गर्भधारण करने की संभावना खत्म हो जाती है। संबंध बनाते समय महिलाओं के शरीर में पर्याप्त लिक्विड बनता है जो स्पर्म को ओवरी तक ले जाने में सहायक है, और इससे गर्भधारण की संभावना भी प्रबल होती है। इसलिए लुब्रिकेंट्स का इस्तेमाल न करना ही दंपत्ति के लिए अच्छा होगा।

11. तनाव को कहें बाय बाय

आज के जमाने में तनाव प्रेग्नेंसी का सबसे बड़ा दुश्मन है। तनाव और अवसाद के चलते गर्भधारण की संभावना खत्म हो जाती है। इसलिए जल्द गर्भवती होना चाहती हैं तो सबसे पहले रिलेक्स रहे औऱ तनाव को अपने से दूर कर दें। अगर नौकरीपेशा हैं तो दफ्तर से छुट्टी लें, कहीं घूमने चले जाएं, पति के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड करें, अच्छा और हेल्दी डाइट प्लान फॉलो करें। नियमित तौर पर व्यायाम करने से भी तनाव कम होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *